नागकेसर के एक ऐसा पौधा जो कई बीमारियों से आपकी सुरक्षा कर सकता है

0
71

जयपुर : नागकेसर एक छोटा पौधा है और इसे आयुर्वेद में फायदेमंद माना जाता है। नाग केसर को कई अन्य नामों से जाना जाता है और इसे नागचम्पा, भुजंगखया, हेम और नागपुष्प भी कहा जाता है।

नागकेसर दक्षिणी भारत, पूर्वी बंगाल और पूर्वी हिमालय में अधिक पाया जाता है और यह पौधा गर्मियों के दौरान खिलाता है। नाग केसर के पौधे पर लगे फूलों का उपयोग आयुर्वेद में किया जाता है और इसकी मदद से कई बीमारियाँ ठीक हो जाती हैं।

नागकेसर में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं और यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। तो आइए जानते हैं नागकेसर के फायदे। नागकेसर की मदद से खांसी को ठीक किया जा सकता है। खांसी होने पर नागकेसर का काढ़ा बनाकर पिएं। इसका काढ़ा बनाने के लिए, आपको इसकी जड़ और छाल की आवश्यकता होगी।

नागकेसर की जड़ और छाल को अच्छी तरह से साफ कर लें। फिर इसे गर्म करने के लिए दो गिलास पानी गैस पर रखें। जड़ को पीसकर उनके अंदर अच्छी तरह से छालें। इस पानी को अच्छे से उबालें। आप चाहें तो चीनी भी डाल सकते हैं। जब यह पानी आधा रह जाए, तो गैस बंद कर दें और इसे छान लें। थोड़ा ठंडा होने के बाद, आपको इस काढ़े को पीना चाहिए।

इस काढ़े को दिन में दो बार पीने से आपकी खांसी तुरंत ठीक हो जाएगी। दूसरी ओर, यदि आप नागकेसर का काढ़ा नहीं पीना चाहते हैं, तो आप 1 ग्राम पीले नागकेसर में थोड़ी चीनी और मक्खन मिलाएं और इस मिश्रण को दिन में तीन बार खाएं। इसे खाने से खांसी से भी राहत मिलती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here